प्राइवेट पार्ट पर कोरोना का दीर्घकालिक दुष्प्रभाव, शख्स का दावा- संक्रमित होने के बाद पेनिस के आकार में आया बदलाव * ENTV

प्राइवेट पार्ट पर कोरोना का दीर्घकालिक दुष्प्रभाव, शख्स का दावा- संक्रमित होने के बाद पेनिस के आकार में आया बदलाव

कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित होने वाले लोगों पर रिकवर होने के बाद भी कुछ दुष्प्रभाव देखे जा सकते हैं, लेकिन यहां सवाल यह है कि क्या इसका दीर्घकालिक दुष्प्रभाव (Long-Term Side Effect) पीड़ित के प्राइवेट पार्ट (Private Part) पर भी पड़ सकता है.

दरअसल, स्लेट के ‘हाउ टू डू इट/सेक्स एडवाइज विद स्टोया एंड रिक’ (How to Do It | Sex Advice with Stoya and Rick) के लेटेस्ट एपिसोड में 30 वर्षीय एक शख्स ने कहा कि कोविड-19 के दीर्घकालिक दुष्प्रभाव के तौर पर वह पेनिस के सिकुड़न (Penis Shrink) की समस्या का सामना कर रहा है. शख्स का कहना है कि बीमारी होने से पहले उनके पेनिस का आकार औसत से ऊपर था, लेकिन जुलाई 2021 में कोरोना वायरस से संक्रमित होने और अस्पताल में भर्ती होने के बाद उसके पेनिस के आकार में बदलाव आ गया और वो करीब अपने आकार से डेढ़ इंच छोटा हो गया.

शख्स को लगा कि उसे एक स्थायी समस्या के साथ छोड़ दिया गया है, क्योंकि उसके पेनिस में सिकुड़न आ गई है. शख्स ने लिखा कि यह स्पष्ट रूप से वैस्कुलर डैमेज के कारण है और मेरे डॉक्टरों को लगता है कि यह स्थायी होने की संभावना है. यूरोलॉजिस्ट के अनुसार, अधिक लोगों ने पाया है कि उनका इरेक्शन COVID-19 संक्रमण से प्रभावित था.

 

नवंबर में, यूरोलॉजिस्ट के एक समूह ने राष्ट्रीय नपुंसकता माह के सम्मान में एक पीएसए लगाया और लोगों को “बोनर्स के भविष्य को बचाने” के लिए COVID-19 के खिलाफ टीका लगवाने की चेतावनी दी. उन्होंने कहा कि यह रोग कुछ रोगियों में स्तंभन दोष का कारण बन सकता है.

अगस्त 2021 में प्रकाशित एक छोटे से अध्ययन में पाया गया कि कुछ लोग जिन्हें COVID-19 संक्रमण के बाद स्तंभन दोष का सामना करना पड़ा, उनके पेनिस में वायरस के कण पाए गए थे. अध्ययन के लेखकों ने लिखा- हो सकता है कि संक्रमण ने पेनिस में रक्त के प्रवाह को प्रतिबंधित कर दिया हो.

इससे पहले बताया गया था कि कोविड-19 संक्रमण खराब परिसंचरण और रक्त के थक्कों से जुड़ा हुआ है, जो कोविड टोज, स्ट्रोक और दिल की विफलता वाले रोगियों में देखा जाता है. हालांकि शुरुआत में सोचा गया था कि स्तंभन दोष की दवा की कम खुराक इस समस्या में मदद कर सकती है. इसके साथ ही बताया गया कि ऐसे उपकरण जो पेनिल को पंप करते हैं, वो खोई हुई लंबाई और आकार को वापस लाने में मदद कर सकते हैं.

Spread the News
%d bloggers like this: