सिरमौर: बर्फ के बीच 12 किमी पैदल चलकर हरिपुरधार पहुंचाया मरीज * ENTV

सिरमौर: बर्फ के बीच 12 किमी पैदल चलकर हरिपुरधार पहुंचाया मरीज

लोक निर्माण विभाग की लचर व्यवस्था क्षेत्र के लोगों की जान के लिए आफत बन गई है। मंझोली और बांदल कफलाह पंचायतों के लोगों को विभाग की लापरवाही का भारी खामियाजा भुगतना पड़ रहा है। मंझोली पंचायत के सियारली गांव की 60 वर्षीय मुरतो देवी लंबे समय से बीमार चल रही है। परिजन उसे इलाज के लिए अस्पताल ले जाना चाहते थे मगर बर्फबारी के कारण सड़क पिछले 10 दिन से बंद पड़ी थी। सोमवार देर शाम उसकी तबीयत इतनी खराब हो गई कि सांस लेने में भी भारी दिक्कतें हो रही थीं।

हालत ज्यादा खराब हुए तो ग्रामीण लोहानधार तक उसे एक गाड़ी में लेकर आए। लोहानधार से आगे सड़क बंद थी। मजबूरन दो से ढाई फीट बर्फ के बीच ग्रामीणों ने मरीज को कंधे पर उठा 12 किलोमीटर पैदल चलकर हरिपुरधार पहुंचाया। मरीज की हालत इतनी खराब हो गई थी कि सीएचसी पहुंचने के बाद चिकित्सक ने उसे तुरंत शिमला रेफर कर दिया। करीब एक सप्ताह पहले इसी परिवार के एक व्यक्ति मोहीराम की भी तबीयत बिगड़ गई थी। खराब मौसम व बर्फबारी के कारण सड़क बंद होने के कारण उसे अस्पताल नहीं पहुंचाया जा सका, जिसकी बिना इलाज के ही मौत हो गई।

बता दें कि हरिपुरधार-लोहानधार बाग सड़क और डोभा-चंजाह समटाडा सड़कें भारी बर्फबारी के कारण 9 जनवरी को बंद हो गई थीं। 15 जनवरी तक लोक निर्माण विभाग की ओर से इन सड़कों को खोलने के कोई भी प्रयास नहीं किए गए। इस दौरान क्षेत्र में बीमार पड़े कई मरीजों को बर्फ के बीच कंधे पर उठाकर अस्पताल पहुंचाना पड़ा। सहायक अभियंता बाबूराम शर्मा ने बताया कि सड़क को मंगलवार दोपहर तक आवाजाही के लिए खोल दिया है। सीएचसी के डॉ. शोभित ने बताया कि महिला को आईजीएमसी शिमला रेफर कर दिया है। महिला को सांस लेने में तकलीफ थी।

Spread the News

ख़बरें जरा हटके

%d bloggers like this: