यासीन मलिक को सजा सुनाने के बाद कश्मीर में देश विरोधी नारेबाजी करने के आरोप में 10 लोग गिरफ्तार * ENTV

यासीन मलिक को सजा सुनाने के बाद कश्मीर में देश विरोधी नारेबाजी करने के आरोप में 10 लोग गिरफ्तार

कश्मीर पुलिस ने मैसूमा श्रीनगर में स्थित यासीन मलिक के घर के बाहर राष्ट्र विरोधी नारेबाजी करने के आरोप में 10 लोगों को गिरफ्तार किया है। टेरर फंडिंग और राष्ट्र के खिलाफ साजिश रचने के मामले में एनआइए कोर्ट ने यासीन मलिक को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। सजा सुनाने के बाद मलिक के घर के बाहर लोग इकट्ठा होना शुरू हो गए और उन्होंने राष्ट्र विरोधी नारेबाजी शुरू कर दी।

कश्मीर पुलिस ने बताया कि अब तक दस आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। ये लोग भी श्रीनगर के मैसूमा इलाके में यासीन मलिक के घर के बाहर राष्ट्र विरोधी नारेबाजी और पथराव में शामिल थे। पुलिस अधिकारी ने बताया कि प्रदर्शन की जानकारी मिलते ही पुलिस ने इन उपद्रवियों की गिरफ्तारी के लिए अभियान छेड़ दिया था। आधी रात को कई जगहों पर छापेमारी की गई जिससे ये 10 लोग हिरासत में लिए गए। मुख्य आरोपी को भी गिरफ्तार कर लिया गया है।

अधिकारी ने बताया कि प्रदर्शन के बाद रात को ही मैसूमा थाने में अवैध गतिविधि रोकथाम अधिनियम की धारा 13 के तहत आईपीसी की धारा 120बी, 147, 148, 149, 336 के साथ पठित आईपीसी की धारा 34 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया था। उनके पास प्रदर्शन व पथराव के दौरान की कई वीडियो हैं। कुछ और आरोपियों की पहचान की जा रही है और जल्द ही उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

पुलिस अधिकारी ने कहा कि लोगों को भड़काने वाले मुख्य आरोपियों के खिलाफ पीएसए के तहत मामला दर्ज किया जाएगा और उन्हें जम्मू-कश्मीर के बाहर की जेलों में रखा जाएगा। उन्होंने एक बार फिर कश्मीर में अशांति फैला रहे राष्ट्र विरोधी तत्वों को चेतावनी दी कि श्रीनगर में कानून-व्यवस्था खलल पैदा करने वालों को कतई बख्शा नहीं जाएगा। उनके खिलाफ सख्त से सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने एक बार फिर श्रीनगर के युवाओं से अनुरोध किया कि वे ऐसी गतिविधियों में शामिल न हों। उन्होंने कहा कि कश्मीर में सक्रिय राष्ट्र विरोधी तत्व उन्हें इस तरह के प्रदर्शनों में शामिल कर उनके भविष्य को नुकसान पहुंचा रहे हैं। उन्होंने परिजनों से भी अपील की कि वह अपने बच्चों का सही मार्गदर्शन करें।

 

Spread the News
%d bloggers like this: