अमेरिका में छपी दिल्ली की तारीफ, इधर पड़ा छापा, CM केजरीवाल ने कसा तंज

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के घर समेत दिल्ली-एनसीआर में 21 जगहों पर सीबीआई ने छापा मारा है. दिल्ली की आबकारी पॉलिसी को लेकर ये रेड मारी गई है. एक्ससाइज विभाग के कई अफसरों के यहां भी रेड पड़ी है. दिल्ली के तत्कालीन आबकारी कमिश्नर अरवा गोपी कृष्ण के परिसर पर भी छापा पड़ा है. इस पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जिस दिन अमेरिका के सबसे बड़े अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स के फ्रंट पेज पर दिल्ली शिक्षा मॉडल की तारीफ और मनीष सिसोदिया की तस्वीर छपी, उसी दिन मनीष के घर केंद्र ने CBI भेजी. सीबीआई का स्वागत है. पूरा सहयोग करेंगे. पहले भी कई जांच/रेड हुईं. कुछ नहीं निकला. अब भी कुछ नहीं निकलेगा.

उन्होंने आगे कहा कि दिल्ली के शिक्षा और स्वास्थ्य मॉडल की पूरी दुनिया चर्चा कर रही है. इसे ये रोकना चाहते हैं. इसीलिए दिल्ली के स्वास्थ्य और शिक्षा मंत्रियो पर रेड और गिरफ्तारी हो रही हैं. 75 सालों में जिसने भी अच्छे काम की कोशिश की, उसे रोका गया. इसीलिए भारत पीछे रह गया. दिल्ली के अच्छे कामों को रुकने नहीं देंगे.

इससे पहले उन्होंने द न्यूयॉर्क टाइम्स के पेज को ट्वीट करते हुए लिखा कि दिल्ली ने भारत को गौरवान्वित किया है. दिल्ली मॉडल अमेरिका के सबसे बड़े अखबार के पहले पन्ने पर है. मनीष सिसोदिया स्वतंत्र भारत के सर्वश्रेष्ठ शिक्षा मंत्री हैं.

वहीं सिसोदिया ने कहा कि हम सीबीआई का स्वागत करते हैं. जांच में पूरा सहयोग देंगे ताकि सच जल्द सामने आ सके. अभी तक मुझ पर कई केस किए लेकिन कुछ नहीं निकला. इसमें भी कुछ नहीं निकलेगा. देश में अच्छी शिक्षा के लिए मेरा काम रोका नहीं जा सकता. ये लोग दिल्ली की शिक्षा और स्वास्थ्य के शानदार काम से परेशान हैं. इसीलिए दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री और शिक्षा मंत्री को पकड़ा है ताकि शिक्षा स्वास्थ्य के अच्छे काम रोके जा सकें. हम दोनों के ऊपर झूठे आरोप हैं. कोर्ट में सच सामने आ जाएगा.

इस तरह सीबीआई के घेरे में आए सिसोदिया

सीबीआई ने जो FIR दर्ज की है, उसमें मनीष सिसोदिया का भी नाम है. सूत्रों के मुताबिक दिल्ली के मुख्य सचिव ने 15 पेज की एक रिपोर्ट बनाई है. यह रिपोर्ट आबकारी विभाग में जुड़ी अनियमितताओं से थी. इस रिपोर्ट को लेफ्टिनेंट गवर्नर के यहां भेजा गया, लेफ्टिनेंट गवर्नर ने इस रिपोर्ट को केंद्रीय गृह मंत्रालय को भेजा, जहां से यह रिपोर्ट सीबीआई को भेजी गई और उसके बाद मनीष सिसोदिया और उससे जुड़े तमाम लोगों पर सीबीआई की रेड हुई है.

Spread the News

ख़बरें जरा हटके

%d bloggers like this: