फर्जी अस्पताल के इंटर पास डॉक्टर! ऑपरेशन की सुविधा नहीं और कर दी सर्जरी

लखनऊ: लखनऊ के दुब्बगा में एक ऐसे अस्पताल का खुलासा हुआ है, जिसमें इंटरपास युवक मरीजों का इलाज करते हैं. अस्पताल में ना तो ऑपरेशन थिएटर की व्यवस्था है और ना ही अन्य जरूरी सुविधाएं, बावजूद इसके अस्पताल में एक पोस्ट ऑपरेटेड मरीज भर्ती पाया गया है. यह खुलासा रविवार को अस्पताल में स्वास्थ्य विभाग की छापेमारी के दौरान हुआ. इस अस्पताल के खिलाफ पिछले महीने मुख्यमंत्री के आईजीआरएस पोर्टल पर शिकायत आई थी. इसके अलावा अस्पताल में इतनी गंदगी पायी गई है, जिससे यहां आने वाले मरीजों में भयंकर संक्रमण होने की आशंका है. स्वास्थ्य विभाग की टीम ने इस अस्पताल में भर्ती दोनों मरीजों को तत्काल यहां से निकालकर सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया है.

विभागीय अधिकारियों के मुताबिक दुबग्गा स्थित अमन अस्पताल में मरीजों का इलाज कर रहे दोनों युवकों की शैक्षिक योग्यता महज इंटरमीडिएट पाई गई है. बताया कि अस्पताल प्रबंधन के पास फार्मेसी का लाइसेंस तक नहीं था. टीम ने जब अस्पताल के मालिक की तलाश कराई तो पता चला कि वह टीम को देखते ही अस्पताल से निकलकर फरार हो गया. हालात को देखते हुए छापेमारी करने पहुंची टीम ने अस्पताल का संचालन तत्काल रोकने की सिफारिश की है.

आईजीआरएस पर आई थी शिकायत

टीम में शामिल डॉक्टरों के मुताबिक इस अस्पताल के खिलाफ पिछले महीने मुख्यमंत्री के आईजीआरएस पोर्टल पर शिकायत आई थी. इसमें बताया गया था कि अवैध तरीके से अस्पताल का संचालन किया जा रहा है. छापेमारी के दौरान इन शिकायतों की पुष्टि हुई है. एडिशनल सीएमओ अनूप श्रीवास्तव ने बताया कि अस्पताल संचालक अबरार फिलहाल फरार है. जानकारी मिली है कि वह बीयूएमएस हैं, हालांकि अभी तक उसने ना तो अपनी खुद की डिग्री दिखाई है और ना ही अस्पताल के संचालन से संबंधित दस्तावेज ही दिए है. उन्होंने बताया कि अस्पताल में एक मरीज सर्जरी के बाद भर्ती मिला है.

अस्पतालों के गेट पर लगेगी डॉक्टरों की तस्वीर

इस फर्जी अस्पताल के खुलासे के बाद सीएमओ लखनऊ ने जिले में संचालित सभी अस्पताल, नर्सिंग होम, डायग्नोस्टिक लैब संचालकों के लिए कड़े दिशा निर्देश दिए हैं. इसमें सभी प्रबंधकों को तत्काल मुख्य गेट पर अपने यहां कार्यरत सभी डॉक्टरों की फोटो के साथ उनका पूरा ब्योरा लगाने को कहा है. ऐसा नहीं करने वाले अस्पताल प्रबंधकों के खिलाफ उन्होंने कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी है.

लगातार आ रही हैं झोलाछाप डॉक्टरों की शिकायतें

शहरों में झोलाछाप डॉक्टरों की शिकायतें लगातार सामने आ रही है. दो दिन पहले गुरुग्राम में एक झोलाछाप डॉक्टर ने मरीज की मौत के बाद उसके शव को सड़क पर फेंक दिया था. वहीं बीते सप्ताह लखनऊ के मलीहाबाद में एक झोलाछाप डॉक्टर के इलाज से महिला की मौत हो गई थी. इसी तरह की कई शिकायतें पिछले दिनों गाजियाबाद, नोएडा से भी सामने आई थीं.

Spread the News

ख़बरें जरा हटके