हिमाचल में प्राइवेट स्कूलों ने बढ़ाई ट्यूशन फीस, छात्र अभिभावक मंच ने जताया रोष, कहा- हाईकोर्ट के नियमों की धज्जियां उड़ाई जा रहीं

शिमला के कुछ प्राइवेट स्कूलों ने फरवरी 2023 में 10वीं व 12वीं क्लास के छात्रों की ट्यूशन फीस 3 रुपए तक मांगी है। प्राइवेट स्कूल के इस फैसले का पेरेंट्स विरोध कर रहें हैं। पैरेंट्स का कहना है कि प्राइवेट स्कूल छात्रों को ट्यूशन के नाम पर लूट रहे है। इस मनमानी को बिल्कुल भी सहन नहीं किया जाएगा।

छात्र अभिभावक मंच ने उठाई आवाज

ट्यूशन फीस बढ़ाए जाने पर छात्र अभिभावक मंच स्कूल प्रबंधन के खिलाफ खड़ा हो गया है। मंच के सदस्य विवेक कश्यप ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर प्राइवेट स्कूलों द्वारा इस निर्णय को वापस नहीं लिया गया तो मंच आंदोलन तेज करेगा व शिक्षा निदेशालय का घेराव करने से भी नहीं चूकेगा।

छात्र अभिभावक मंच के को-ऑर्डिनेटर विजेंद्र मेहरा ने हायर एजुकेशन के डायरेक्टर से निजी स्कूलों द्वारा गैर कानूनी तरीके से अतिरिक्त फीस वसूलने के मामले में तुरंत कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है। निजी स्कूलों के फीस बढ़ाने के निर्णय से स्पष्ट है कि वे लूटने व तानाशाही करने पर आ गए हैं।

विजेंद्र मेहरा ने कहा कि हिमाचल प्रदेश हाईकोर्ट ने साल 2016 में ही इस बात को स्पष्ट कर दिया है कि प्राइवेट स्कूलों द्वारा नियमित टयूशन फीस के अलावा किसी भी तरह के अन्य चार्जेस व अतिरिक्त फीस वसूली नहीं की जा सकती है। इसके बावजूद स्कूल अपनी मर्जी से ज्यादा फीस वसूल रहे हैं।

Spread the News

ख़बरें जरा हटके